समलैंगिक संबंध बनाने वालों के साथ इस जगह की जा रही है बेहद शर्मनाक हरकत

Off Beat

एक समय था जब समलैंगिक रिश्तों के लिए हमारा समाज इजाजत नहीं देता था और इसे एक बड़ी सामाजिक बुराई के तौर पर देखा जाता था लेकिन आज अगर समलैंगिक रिश्तो की बात करें तो कई देशों ने इसे मान्यता दे दी है। कई जगहों पर अब ये अपराध की श्रेणी में नहीं आता है।

This image has an empty alt attribute; its file name is index-1.jpg


आज के समय से देखा जाए तो समलैंगिक लोगों का रिश्ते में होना जमाने के लिए काफी आम बात हो गई है। एक वक्त था जब इससे लोग परेशानी के रुप में देखते थे, लेकिन अब लोग इतना नहीं सोचते। कुछ लोग कहते हैं कि ये प्रेम का ही रूप है तो कुछ कहते हैं यह एक ‘आनुवांशिक मानसिक विकृति’ है जिसका इलाज करना बहुत जरुरी होता है।

आज हम आपको ऐसी एक जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पर इस बीमारी को यानि समलैंगिक स्त्री-पुरुषों को बिजली का झटका देकर उनकी इस परिस्थिति को ठीक किया जा सकता है।


आपको जानकर हैरानी होगी कि दिल्ली चिकित्सा परिषद ने ऐसा दावा करने वाले डॉक्टर के प्रैक्टिस करने पर रोक लगा दी थी, लेकिन वह अब भी अजीबो गरीब तरीके से इलाज को अंजाम दे रहा था। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा ने कहा कि यह डॉक्टर जिस तरीके का इस्तेमाल कर रहा है, उसका कोई ब्योरा चिकित्सा विज्ञान में या स्वीकृत तौर तरीकों में नहीं है। वही भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम के तहत उसे एक साल की सजा भी हो सकती है।



इसके अलावा अगर कोर्ट की मानें तो यह डॉक्टर 15 मिनट की काउंसलिंग के लिए 4,500 रुपये फीस चार्ज करता है और उसके बाद ही वह हार्मोन या मनोवैज्ञानिक तरीके से ऐसे लोगों का इलाज करता है। जब डीएमसी ने डॉक्टर को नोटिस जारी किया तो उसने कहा कि वह किसी परिषद से पंजीकृत नहीं है, और यही वजह है कि वह इसका जवाब देने के लिए जिम्मेदार नहीं है।

Leave a Reply